अनिल कुमार बने एनटीपीसी लारा के नए कार्यकारी निदेशक



अनिल कुमार ने 26 मई 2024 को एनटीपीसी लारा में कार्यकारी निदेशक के पद पर  कार्यभार संभाला है।  अखिलेश सिंह के स्थानांतरण के पश्चात  अनिल कुमार ने कार्यकारी निदेशक पद पर परियोजना प्रमुख का कार्यभार संभाला है। इस से पहले अनिल कुमार मध्य प्रदेश के झाबुआ पावर स्टेशन के सीईओ पद पर कार्यरत थे।

अनिल कुमार ने वर्ष 1987 में एनटीपीसी में नियुक्ति हुई । लारा में पदस्तापना से पहले, उन्होंने एनटीपीसी के बदरपुर, फरीदाबाद, देश के सबसे बड़े बिजली संयंत्र एनटीपीसी विंध्याचल, मेजा, एनटीपीसी के नोएडा कार्यालय और झाबुआ बिजली संयंत्र में अपनी सेवाएँ प्रदान किए थे ।

एनटीपीसी लारा स्टेशन 1600 मेगावाट की स्थापित क्षमता के साथ छत्तीसगढ़ का सबसे तेजी से बढ़ने वाला स्टेशन है। यह स्टेशन में 800 मेगावाट की 02 इकाइयाँ कुल 1600 मेगावाट क्षमता वर्धन की कार्यप्रगति पर है। उत्पादित बिजली का 50 प्रतिशत केवल छत्तीसगढ़ राज्य को आपूर्ति की जाती है और शेष राशि मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, गुजरात, गोवा, दमन और दीव को आपूर्ति की जाती है। उनकी नियुक्ति लारा परियोजना के लिए प्रगति और समृद्धि के एक नए अध्याय का प्रतीक है, जो छत्तीसगढ़ और राष्ट्र के लिए विश्वसनीय ऊर्जा प्रदान करने की अपनी प्रतिबद्धता की पुष्टि करती है। अपने शानदार 37 साल के कैरियर के दौरान अनिल कुमार ने परिचालन दक्षता बढ़ाने और प्रदर्शन के उच्च मानकों को बनाए रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। उनके नेतृत्व की विशेषता रणनीतिक दृष्टि और उत्कृष्टता के प्रति प्रतिबद्धता है, जो परियोजना को सफलता की ओर ले जाती है।

कुमार ने इस अवसर के लिए आभार व्यक्त किया और परियोजना की अखंडता और नवीनता के मूल्यों को बनाए रखने के लिए अपने समर्पण की पुष्टि की है।

WhatsApp Image 2024-01-16 at 17.12.43
WhatsApp Image 2024-01-16 at 17.12.43
previous arrow
next arrow
Back to top button
भूपेश बघेल ने सहा सोंटे का प्रहार VIDEO CG NEWS : घरघोड़ा बस स्टैंड के पीछे मिला अज्ञात व्यक्ति का शव Sharad Purnima 2023 : जानिए क्यों बनाई जाती है शरद पूर्णिमा पर खीर, जाने क्या है खीर का महत्व
भूपेश बघेल ने सहा सोंटे का प्रहार VIDEO CG NEWS : घरघोड़ा बस स्टैंड के पीछे मिला अज्ञात व्यक्ति का शव Sharad Purnima 2023 : जानिए क्यों बनाई जाती है शरद पूर्णिमा पर खीर, जाने क्या है खीर का महत्व